Wednesday, 9 November 2016

अमेरिका चुनावः डोनाल्ड ट्रंप की जीत से भारत को होंगे ये 5 बड़े नुकसान

एक साल के ताबड़तोड़ प्रचार पर अमेरिकियों ने अपने फैसला लगभग सुना दिया है। अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव पर भारत समेत सारी दुनिया की नजर थी। अमेरिका का 45वां राष्ट्रपति भारत के लिहाज से कैसा साबित होगा? या अगर रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के राष्ट्रपति बनते हैं तो यह भारत के लिए कैसा होगा?

ये अब बड़े सवाल हैं।
अमेरिका के साथ भारत के पुराने अनुभव बताते हैं कि रिपब्लिकन राष्ट्रपति सामान्य तौर पर डेमोक्रेटिक उम्मीदवार से बेहतर साबित हुए हैं लेकिन पिछले कुछ सालों में अमेरिका और भारत के संबंध तेजी से बदलते रहे हैं। आइए देखते हैं ट्रंप का राष्ट्रपति बनना भारत के लिहाज से कैसा है...
क्या होगा भारत को नुकसान
1- दुनियाभर के बाजार नहीं चाहते कि ट्रंप राष्ट्रपति बने। लिहाजा बाजार की ट्रंप की जीत पर तीखी प्रतिक्रिया होगी। वह उदार अंतरराष्ट्रीय व्यापार कानूनों का समर्थन नहीं करते हैं।
2 - ट्रंप की ट्रेड पॉलिसी ऐसी है जिसमें 'पहले सिर्फ अमेरिका' होता है और वह सभी व्यापार समझौते को नए सिरे से लागू करना चाहते हैं, भारत के साथ भी वह यही करने के पक्षधर है।
3- ट्रंप एच1बी वीजा प्रोग्राम के खिलाफ हैं और इसे बंद करना चाहते हैं। अगर ट्रंप जीतते हैं तो भारतीय आईटी स्टॉक और आईटी कंपनियों को इसका नुकसान होगा।
4 -एक तरफ वह भारत की तारीफ करते हैं तो दूसरी ओर आरोप लगाते रहे हैं कि भारत और चीन अमेरिका की नौकरियां छीन रहे हैं और वह इन्हें वापस लाएंगे। अमेरिका की नौकरी वापस लाने का मतलब है कि वह प्रवासियों के लिए मुश्किल कानून लाने वाले हैं। काम करने के मामले में अमेरिका भारतीयों की पहली पसंद है। लिहाजा नकरात्मक असर पड़ेगा।
5- डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका में कॉर्रोपोरेट टैक्स को घटाकर 35 से 15 फीसदी कर सकते हैं। इसका असर यह होगा कि फोर्ड, जीएम और माइक्रोसॉफ्ट जैसी अमेरिकी कंपनियां दोबारा अमेरिका का रुख करेगी। यह मोदी की 'मेक इन इंडिया' स्कीम के लिए खतरनाक होगा।

No comments:

Post a Comment

author
Himanshu Shrivastava
A Certified Digital Marketer (By Google). and well Experianced Blogger Since 2010 .
author
Santosh Shrivastava
A Certified Digital Marketer (By Google) , well Experianced Blogger Since 2012 . and a Certified Security Expert .